बुधवार, जुलाई 10, 2019

ये न सोच कि मैंने तुझे भुला दिया

ज़िंदगी के झंझटों ने उलझा दिया
ये न सोच कि मैंने तुझे भुला दिया। 

शुक्रिया कहूँ ख़ुदा को या गिला करूँ
दर्द दिया, दर्द सहने का हौसला दिया। 

तुझे बेवफ़ा कहना ठीक न होगा 
मेरे मुक़द्दर ने ही मुझे दग़ा दिया। 

ये हुनर सीखा है ख़ुश रहने के लिए 
हर कसक को आँसुओं में बहा दिया। 

हार मानना बुज़दिलों का काम है 
इतना तो मैंने ख़ुद को बता दिया। 

तेरी याद ही है ‘विर्क’ जिसने मुझे 
कभी रुला दिया तो कभी बहला दिया। 

दिलबागसिंह विर्क 
******

बुधवार, जुलाई 03, 2019

अपनों के इस शहर में हैं बेगाने बहुत।

यूँ तो हैं यहाँ पर चेहरे जाने-पहचाने बहुत
मगर अपनों के इस शहर में हैं बेगाने बहुत। 

कुछ हुनर न था हाथों में, कुछ लापरवाही थी
कुछ लगे, कुछ ज़ाया गए, लगाए थे निशाने बहुत।

अपनों की बेवफ़ाई ने हिम्मत तोड़ दी मेरी
मैं उठ न पाया फिर, आए थे लोग उठाने बहुत।

उनके ही दिल में फ़रेब था, तभी तो उन्होंने
मेरी सीधी-सी बात के निकाले माने बहुत।

हम भी ख़बर रखते हैं बदले हुए हालातों की
बनाने को तो उसने बनाए थे बहाने बहुत।

मुझे हर हाल में छोटा साबित करना था
हैसियत मापने के लिए बदले पैमाने बहुत।

सच बोलने की बुराई विर्कमुझी में तो नहीं
इस दुनिया में होंगे, मुझ जैसे दीवाने बहुत।

दिलबागसिंह विर्क 
*******


बुधवार, जून 19, 2019

चलना, थकना, हारना, बस यही मेरा मुक़द्दर था


कुछ कोशिशें नाकाफ़ी थी, कुछ लकीरों का असर था
चलना, थकना, हारना, बस यही मेरा मुक़द्दर था।

न तो ख़ुशियाँ बटोर सका, न ही ठुकरा पाया इसे
मेरा बसेरा कभी सराय, कभी मकां, कभी घर था।

ग़ैर तो ग़ैर थे आख़िर मौक़े मुताबिक़ बदल गए
वे अपने ही थे, मारा जिन्होंने पहला पत्थर था।

लोग तो दुश्मन बनेंगे ही, झूठ को झूठ कहने पर
गिला क्यों करें, जब ख़ुद चुना दुश्वार सफ़र था।

मुझे पागल साबित करके वो बच गए इल्ज़ामों से
आख़िरकार विर्कवही हुआ जिसका मुझे डर था।

दिलबागसिंह विर्क 
*******

बुधवार, जून 12, 2019

बस इतना ही फ़र्क़ होता, फ़र्ज़ानों और दीवानों में


दिल की कश्ती को उतारें मुहब्बत के तूफ़ानों में
शुमार होता है उनका, ग़ाफ़िलों में, नादानों में।

वो यकीं रखे ज़ेहनीयत में, ये दिल को दें अहमियत
बस इतना ही फ़र्क़ होता, फ़र्ज़ानों और दीवानों में।

कसक के सिवा क्या पाओगे तहक़ीक़ात करके
उनकी मग़रूरी छुपी हुई है उनके बहानों में।

वो हमदम भी है, क़ातिल भी, तमाशबीन भी
तुम्हीं बताओ, उसे रखूँ अपनों में या बेगानों में।

चाँद को हँसते देखा, चकोर को तड़पते देखा
ऐसा वाक़िया आम हो चला दिल के फ़सानों में।

विर्कबहारें उनको फिर कभी नसीब नहीं होती
साथी छोड़कर चले गए हों जिन्हें वीरानों में।

दिलबागसिंह विर्क 
*******


बुधवार, जून 05, 2019

बेवफ़ाई का मुद्दा उठाऊँ क्या ?


तुझे तेरी नज़रों से गिराऊँ क्या ?
बेवफ़ाई का मुद्दा उठाऊँ क्या ?

क्या महसूस कर सकोगे मेरा दर्द
अपने ग़म की दास्तां सुनाऊँ क्या ?

मेरे पास है बस वफ़ा की दौलत
बताओ, दिल चीर के दिखाऊँ क्या ?

घुले-मिले पड़े हैं, ग़म-ख़ुशी के पल
याद रखूँ किसे और भुलाऊँ क्या ?

सियासत नहीं, मुहब्बत की है मैंने
फिर इस ज़माने से छुपाऊँ क्या ?

यूँ तो विर्कनिराशा मिली हर बार
अपना मुक़द्दर फिर आज़माऊँ क्या ?

दिलबागसिंह विर्क 
********
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...