बुधवार, फ़रवरी 22, 2017

भूले-बिसरे पल

रामेश्वर कम्बोज, डॉ . भावना कुंवर और डॉ . हरदीप संधू जी द्वारा संपादित यादों के पाखी संकलन में शामिल मेरे कुछ हाइकु में से एक

4 टिप्‍पणियां:

kuldeep thakur ने कहा…

दिनांक 23/02/2017 को...
आप की रचना का लिंक होगा...
पांच लिंकों का आनंदhttps://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
आप भी इस चर्चा में सादर आमंत्रित हैं...
आप की प्रतीक्षा रहेगी...

सुशील कुमार जोशी ने कहा…

सुन्दर।

रश्मि शर्मा ने कहा…

बहुत सुुंदर

Digamber Naswa ने कहा…

सुन्दर हाइकू ... क्या बात ....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...