गुरुवार, जून 30, 2011

हाइकु - 6

               
                     न कर्म में है 
                     न शुचिता सोच में 
                     वस्त्र सफेद .

                    आज भी वही
                    लाठी वाले की भैंस 
                    कैसी आज़ादी ?

                    भ्रूण की हत्या 
                    है मातृत्व की हत्या 
                    क्यों चुप हैं माँ ?

                    दिखावा बढ़ा 
                    धार्मिकता गायब 
                    ये कैसे धर्म ?

                    सच के लिए 
                    नहीं बोलोगे तुम 
                    पछताओगे !

                     * * * * * 

6 टिप्‍पणियां:

CS Devendra K Sharma "Man without Brain" ने कहा…

दिखावा बढ़ा
धार्मिकता गायब
ये कैसे धर्म ?

bahut sahi..

saarthak rachna....

वीना ने कहा…

भ्रूण की हत्या
है मातृत्व की हत्या
क्यों चुप हैं माँ ?

बहुत मार्मिक.....
सही है मां भी चुप है....

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत उम्दा हाईकु!!

Kunwar Kusumesh ने कहा…

सभी हाइकु बढ़िया.हैं.

Babli ने कहा…

आज भी वही
लाठी वाले की भैंस
कैसी आज़ादी ?
सटीक लिखा है आपने! सभी हाइकु बहुत बढ़िया लगा !
मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/

Rachana ने कहा…

bahut sunder haiku .
आज भी वही
लाठी वाले की भैंस
कैसी आज़ादी ?
sachchai to yahi hai .aapne sahi likha hai

sabhi haiku bahut sunder hain
rachana

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...