बुधवार, जुलाई 27, 2011

हाइकु गीत

                   खुद बेवफा 
                   दूसरों से चाहते 
                   करें वो वफा .

                   सच कहा तो 
                   तमाम दोस्त मेरे 
                   हो गए खफा .

                   कपटी हम
                   ऐसे में क्यों न होगा 
                   नाराज़ खुदा .

                   न्याय करना 
                   चाहिए था जिनको 
                   करते जफा .

                   सत्ता पाते ही 
                   दिखाने लगे नेता 
                   नखरे - अदा .

                   खोटे सिक्के हैं 
                   बाजारे - दुनिया में 
                   ये प्यार - वफा .

                     * * * * *

21 टिप्‍पणियां:

वीना ने कहा…

खोटे सिक्के हैं
बाजारे - दुनिया में
ये प्यार - वफा .

बहुत खूब हाइकु गीत...

संजय भास्कर ने कहा…

खूब.. बहुत दिनों बाद कुछ अच्छा पढ़ा है..

संजय भास्कर ने कहा…

.... प्रशंसनीय रचना - बधाई

Chandra Bhushan Mishra 'Ghafil' ने कहा…

bahut khoob

anu ने कहा…

सच कहा तो
तमाम दोस्त मेरे
हो गए खफा .

कपटी हम
ऐसे में क्यों न होगा
नाराज़ खुदा .


हाइकु गीत....समझ कर ...पढना ज्यादा अच्छा लगा

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति

एस.एम.मासूम ने कहा…

खुद बेवफा
दूसरों से चाहते
करें वो वफा .
सच कहा तो
तमाम दोस्त मेरे
हो गए खफा
.
. बहुत खूब भाई वाह दिल खुश कर दिया

ਦੇਸ - ਪ੍ਰਦੇਸ ने कहा…

सच कहा तो
तमाम दोस्त मेरे
हो गए खफा .

achcha haiku

अशोक कुमार शुक्ला ने कहा…

Sachmuch bahut mehnat ki hai aapne. Bahut achcha ban pada hai yeh haikoo geet.
Badhai sweekare.

smshindi By Sonu ने कहा…

बेहद खूबसूरत....

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

Anil Avtaar ने कहा…

Bahut hi satya kaha aapne.. aabhar..

रविकर ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति महोदय ||

बधाई स्वीकार करें ||

veerubhai ने कहा…

खोटे सिक्के हैं बाजारे दुनिया में ,
ये प्यार वफ़ा .
बहुत खूब हाइकु -कृपया यहाँ भी पधारें .-

http://veerubhai1947.blogspot.com/

http://sb.samwaad.com/
http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सटीक हाईकू

anita agarwal ने कहा…

खुद बेवफा
दूसरों से चाहते
करें वो वफा .


सच कहा तो
तमाम दोस्त मेरे
हो गए खफा .

वह बहुत सुंदर .. गागर में सागर .....
ब्लॉग की दुनिया में नयी हूँ. . यदि आप मेरा लिखा हुआ पढेंगे तो अच्छा लगेगा ...

Dr Varsha Singh ने कहा…

very nice meaningful creation.

anita agarwal ने कहा…

apke kehne ke anusar maine apni rachna me title de diya hai.. ab aap rachna ko charch manch mei shamil ker sakte hain...
....aabhar

prerna argal ने कहा…

आपकी पोस्ट " ब्लोगर्स मीट वीकली {३}"के मंच पर सोमबार ७/०८/११को शामिल किया गया है /आप आइये और अपने विचारों से हमें अवगत करिए /हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। कल सोमवार को
ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

इंजी० महेश बारमाटे "माही" ने कहा…

nice :)

amrendra "amar" ने कहा…

very nice

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...