मंगलवार, जनवरी 28, 2014

रिश्ते

" मीतु-रीतू आए नहीं ? " - सीमा ने अपने पति सुरेश से पूछा |
' नहीं, वे नहीं आएँगे , दीदी को अचानक दिल्ली जाना पड़ गया | ' - सुरेश ने कहा | 
" चलो अच्छा है, आते तो कम-से-कम हजार की चपत तो जरूर लग जाती | " - सीमा ने कुछ सोचते हुए कहा | 
' हाँ, ये तो है | महँगाई बहुत है | '- सुरेश ने कुछ असहज होते हुए कहा | सीमा से वह असहमत हो ऐसा नहीं, लेकिन जिन्दगी की तराज़ू पर रिश्तों का दौलत से हल्का होना उसे अखर गया था |

                                                          ********* 

3 टिप्‍पणियां:

Digamber Naswa ने कहा…

सच है पर सच को झुठलाया भी तो नहीं जा सकता ...

Virendra Kumar Sharma ने कहा…

सुन्दर कटाक्ष

रश्मि शर्मा ने कहा…

वाकई....कई बार रि‍श्‍ते से ज्‍यादा पैसों को अहमि‍यत दी जाती है....बहुत अच्‍छा लि‍खा

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...