शनिवार, अक्तूबर 15, 2011

कविता - 15

                          ज़हर                                  
                   
                       

                      धर्मों के विरुद्ध 
                      धर्मों में,
                      जातियों के विरुद्ध
                      जातियों में,
                      इंसानों के विरुद्ध
                      इंसानों में,
                      भरा हुआ है ज़हर
                      फिर भी हम
                      पूछते हैं एक-दूसरे से 
                      नफरतों का ज़हर
                      क्यों फैला हुआ है 
                      समाज में ?

                         * * * * *

10 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सटीक बात ..समाज भी किससे बना है ... यदि हर व्यक्ति अपने में सुधार कर ले तो समाज स्वयं ही सुधर जायेगा

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

सोचने को विवश करती पोस्ट!
सुन्दर अभिव्यक्ति!

anju(anu) choudhary ने कहा…

बहुत खूब ....सटीक लेखन ....अब सोच बदलने का वक़्त है ...पर ये सोच कब बदलेगी कोई नहीं जानता

Neeraj Dwivedi ने कहा…

बहुत सार्थक प्रस्तुति, विचारणीय प्रस्तुति
My Blog: Life is Just a Life
My Blog: My Clicks
.

उत्‍तमराव क्षीरसागर ने कहा…

सार्थक और प्रासंगि‍क भी.....

Atul Shrivastava ने कहा…

गहरी भावाभिव्‍यक्ति।
सुंदर प्रस्‍तुतिकरण।

amrendra "amar" ने कहा…

बहुत बढ़िया और सार्थक लिखा है आपने! शानदार प्रस्तुती!

संजय भास्कर ने कहा…

नफरतों का ज़हर
क्यों फैला हुआ है
समाज में ?
......सटीक बात

Babli ने कहा…

बहुत सुन्दर एवं सटीक पंक्तियाँ ! सच्चाई को आपने बड़े ही खूबसूरती से शब्दों में पिरोया है ! ज़बरदस्त प्रस्तुती!

ऋता शेखर 'मधु' ने कहा…

सच्चाई का दर्पण...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...