सोमवार, जनवरी 07, 2013

देश का न्याय

आदमी जिंस 
दुनिया है बाज़ार 
प्यार कहाँ है ?
कछुए से भी 
दौड़ में हार रहा 
देश का न्याय ।
एक कोढ़ है 
देश के जिस्म पर 
ये क्षेत्रवाद ।

देखते सब 
औरों की गलतियाँ 
अपनी नहीं ।

**********

7 टिप्‍पणियां:

shyam skha ने कहा…

एक कोढ़ है
देश के जिस्म पर
ये क्षेत्रवाद । bilkul shi bat dilbag ji, isiliye hmen voters ko keval acchi buri 2 rashtriy parties ke candidates ko vote dekar khstervad ke kafan men keel thokni chahiye. jb yeh pattern chal padega tb hum us ko vote denge jo saf suthri chhvi vale ummeedvar samne layegi. lage rhen

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

सार्थक हाइकु

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

क्या कभी कोई साफ़ छवि वाला नेता आएगा ???
लगता तो नहीं है

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सटीक हाइकु

Rajendra Kumar ने कहा…

आज के समाज के लिए सार्थक हाइकू,धन्यबाद।समय मिला तो कभी मेरे ब्लॉग का भी अवलोकन करे।
भूली-बिसरी यादें
वेब मीडिया

Kumar Radharaman ने कहा…

है अच्छा कहा
बात पहुंची,पुनः
प्रतीक्षारत

कविता रावत ने कहा…

यथार्थ परक सटीक प्रस्तुति ,,,

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...