मंगलवार, अगस्त 19, 2014

मेरा ग़म मुझे उठाना होगा

किस दर्द का जिक्र छेड़ूँ मैं, कौन-सी दवा बताओगे ?
जाने-अनजाने तुम भी तो मेरे ज़ख़्म सहलाओगे । 

भर दोगे अश्क़ मेरी आँखों में, खुद को भी रुलाओगे 
छोड़ो मुझे मेरे हाल पर, इस दास्तां से क्या पाओगे ?
टोकरी नहीं फूलों की जो मेरी जगह उठा लो तुम 
मेरा ग़म मुझे उठाना होगा, तुम कैसे उठाओगे ?

मानने को तैयार हूँ मैं सब मशविरे मगर बताओ 
तुम दिल के कंगूरों से, क्या यादों को भी उड़ाओगे ?

तुम्हारे ज़हन में होंगे खुद के हजारों मसले इसलिए 
याद रखोगे मुझे कुछ देर, फिर सब कुछ भुलाओगे । 

सोचोगे ' विर्क ' बाद में, यूँ ही वक़्त जाया किया मैंने 
पल-दो-पल बातें करके मुझसे, तुम फिर पछताओगे । 

दिलबाग विर्क 
*****
काव्य संकलन - अंतर्मन 
प्रकाशक - अनिल शर्मा ' अनिल '
प्रकाशन - अमन प्रकाशन, धामपुर { बिजनौर }
प्रकाशन वर्ष - 2007 

2 टिप्‍पणियां:

Malhotra Vimmi ने कहा…

भावपूर्ण रचना।
बहुत ही सुन्दर पंक्तियां।

kuldeep thakur ने कहा…

सुंदर प्रस्तुति...
दिनांक 21/08/2014 की नयी पुरानी हलचल पर आप की रचना भी लिंक की गयी है...
हलचल में आप भी सादर आमंत्रित है...
हलचल में शामिल की गयी सभी रचनाओं पर अपनी प्रतिकृयाएं दें...
सादर...
कुलदीप ठाकुर

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...