सोमवार, दिसंबर 01, 2014

अर्जुनों की मौत

कोई भी द्रोणाचार्य 
किसी को 
अर्जुन नहीं बना सकता 
हाँ 
कोई अर्जुन 
किसी द्रोणाचार्य को 
अमर जरूर कर सकता है 

यह प्रश्नचिह्न नहीं है 
किसी द्रोणाचार्य की योग्यता पर 
किसी द्रोणाचार्य के ज्ञान पर 
यह तो वास्तविकता है 
दरअसल 
ज्ञान देने की चीज़ नहीं 
ज्ञान लेने की चीज़ है 
अर्जुन बनाया नहीं जाता 
अर्जुन बना जाता है 
अगर बनाया जा सकता अर्जुन 
तो भीड़ होती अर्जुनों की 
आखिर कौरव भी 
सहपाठी थे अर्जुन के 

अर्जुन बनने के लिए 
जरूरी होता है 
अर्जुन का एकलव्य होना 
हर अर्जुन में 
एक एकलव्य होता है 
हर एकलव्य 
अर्जुन बन सकता है 
यह निर्भर करता है द्रोणाचार्य पर 
वो एकलव्य को 
अर्जुन बनने देता है 
या फिर अर्जुन को 
बना देता है एकलव्य 

आज कमी नहीं द्रोणाचार्यों की 
हाँ, एकलव्य आज नहीं मिलते 
आज अँगूठा नहीं कटवाते शिष्य 
आँख दिखाते हैं 
एकलव्यों का मर जाना 
अर्जुनों का मर जाना है । 

दिलबाग विर्क 
*****

4 टिप्‍पणियां:

Aziz Jaunpuri ने कहा…

बहुत सुन्दर

आज का एकलव्य
अगूंठा देता नहीं, दिखाता है
द्रोणाचार्य पर एक नहीं
सौ सौ आरोप लगाता है
द्रोणाचार्य को अनर्थ और
उनके आश्रम को अनर्थ की
कार्यशाला बतलाता है .....

Malhotra Vimmi ने कहा…

बहुत खुब

आज कमी नहीं द्रोणाचार्यों की

हाँ, एकलव्य आज नहीं मिलते

आज अँगूठा नहीं कटवाते शिष्य

आँख दिखाते हैं

एकलव्यों का मर जाना

अर्जुनों का मर जाना है

sadhana vaid ने कहा…

बहुत ही गहन एवं सार्थक प्रस्तुति ! कितनी सही बात कही आपने ---

अर्जुन बनाया नहीं जाता
अर्जुन बना जाता है
अगर बनाया जा सकता अर्जुन
तो भीड़ होती अर्जुनों की

चिंतनीय पोस्ट !

Lekhika 'Pari M Shlok' ने कहा…

bahut gahAn. prastuti arjun banAya. nahi jaa sakta..... behad hi superhit prastuti kHungi ise ..

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...