बुधवार, दिसंबर 24, 2014

इतिहास कभी नया बन जाता

ये दर्द अगर दवा बन जाता 
तो तू मेरा ख़ुदा बन जाता | 

है मन्दिर-मस्जिद के झगड़े
काश ! हर-सू मैकदा बन जाता | 
सीखा होता अगर वक्त से कुछ 
इतिहास कभी नया बन जाता | 

अगर वफ़ा की अहमियत होती 
फिर हर कोई बा-वफ़ा बन जाता | 

ख़ुश रहना अगर आसां होता तो 
यह सबका फलसफ़ा बन जाता | 

तुम ' विर्क ' हिम्मत न हारे होते 
तो एक दिन काफ़िला बन जाता |

दिलबाग विर्क 
*****
काव्य संकलन - हिन्द की ग़ज़लें
संपादक - देवेन्द्र नारायण दास 
प्रकाशन - मांडवी प्रकाशन, गाज़ियाबाद 
प्रकाशन वर्ष - 2008

3 टिप्‍पणियां:

Aziz Jaunpuri ने कहा…

वक्त की छाती पे हम मूंग दला करते हैं
फौलादी इरादों को ले साथ चला करते हैं
वक्त के सैलाब का रूख मोड़ कर हमने
जतला दिया कि हम बवंडर बन चला करते है


Malhotra Vimmi ने कहा…

वक्त भी वक्त का मोहताज है।
बेहद खूबसूरत पंक्तियां।

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

सार्थक प्रस्तुति।
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (28-12-2014) को *सूरज दादा कहाँ गए तुम* (चर्चा अंक-1841) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...