रविवार, सितंबर 09, 2012

अगजल - 45

          प्यार प्यार न रहेगा, सनम छूट जाएगा 
          ' मैं ' को पकड़ोगे तो ' हम ' छूट जाएगा ।

          अगर यूं ही बढ़ते गए दिलों के फासले 
          तो एक दिन देखना, तकुल्लम छूट जाएगा ।

          जिन्दा रहना सजा होगा, अगर हाथ से 
          इंसानियत का परचम  छूट जाएगा ।

          ये रास्ते हैं इनकी अहमियत कुछ नहीं 
          खुदा मिला तो दैरो-हरम छूट जाएगा ।

          न तंगदिल बनो लोगो, इस तंगदिली से 
          प्यार का, खुशियों का मौसम छूट जाएगा ।

          ख़ुशी के पीछे दौड़ना छोड़ दो विर्क 
          फिर देखना, पीछे हर गम छूट जाएगा ।

                      *******************

तकुल्लम  ---- वार्तालाप 
दैरो - हरम ---- काबा और बुतखाना  

                      *******************


5 टिप्‍पणियां:

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

वाह ...एक बेहतरीन लेखनी ...बहुत खूब

रणधीर सिंह सुमन ने कहा…

nice

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

मैं को पकड़ने से हम छूट जाएगा .... बेहतरीन

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

ग़ज़ल के सभी अशआर बहुत उम्दा हैं!

सुशील ने कहा…

बहुत ही खूबसूरत !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...