बुधवार, अगस्त 07, 2013

मुझे अपनी बात कहनी है

गुनाहों की दास्तां बन चुकी है खबर भी
शर्मिंदगी से जमीं में गड़ रही नजर भी । 

हालात बदलने की कोशिश तो करें हम   
इस चुप्पी से रोएगी धरा भी, अब्र भी ।

सच कहना है मुझे बुलंद आवाज में
इसके लिए मंजूर है मुझको जहर भी ।

कत्ल आदमियत का रोज कर रहे हैं लोग
शामिल हैं इसमें सब, गाँव भी, शहर भी ।

फैसले का इंतजार तुम्हें क्योंकर है
मुजरिम के हक में है मुंसिफ भी, सद्र भी ।

मुझे अपनी बात कहनी है हर हाल में
बह्र में भी कहता हूँ ' विर्क ' बेबह्र भी ।
                           ********

6 टिप्‍पणियां:

सुशील ने कहा…

बहुत खूब !

Kailash Sharma ने कहा…

बहुत ख़ूबसूरत....

Anju (Anu) Chaudhary ने कहा…

waah bahut khub

Mahesh Barmate ने कहा…

हमेशा की तरह... बहुत खूब :)

Reena Maurya ने कहा…

बहुत बढ़ियाँ बुलंद आवाज..:-)

ऋता शेखर मधु ने कहा…

बात कहने के लिए यही बुलंदी चाहिए...बहुत सुन्दर !!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...