बुधवार, सितंबर 11, 2013

है प्यार बड़ा ताकतवर

             
               राह  खदा  की  पाई  है
               जिसने प्रीत निभाई है ।

               ऊँचाई  देती  है  वो
               भीतर जो गहराई है ।

               जब से मैंने इश्क किया
               मुझ पर मस्ती छाई है ।

               चाहे  लफ्ज  अढाई  है ।

               सीने  से  लगकर  यारो
               भर  देना  जो  खाई  है ।

               भीड़ रहे इस धरती पर
               चोटी  पर  तन्हाई  है ।

               निकली  है  मेरे  दिल  से
               ' विर्क ' गजल जो गाई है ।

                           *******

2 टिप्‍पणियां:

मदन मोहन सक्सेना ने कहा…


बेह्तरीन अभिव्यक्ति …!!गणेशोत्सव की हार्दिक शुभकामनायें.
कभी यहाँ भी पधारें।
सादर मदन

आशा जोगळेकर ने कहा…

ऊँचाई देती है वो
भीतर जो गहराई है ।

बहुत बढिया।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...