रविवार, अक्तूबर 20, 2013

लोग बस नारे लगाना जानते

                     
           दर्द औरों का बँटाना जानते

           काश ! यारी हम निभाना जानते।

                     इस तरफ हैं वो कभी उस ओर हैं
                     लोग बस नारे लगाना जानते

           खो गया विश्वास यारो क्या करें
           सब यहाँ पर आजमाना जानते ।

                    दर्द की कोई दवा देते नहीं
                    हुस्नवाले दिल जलाना जानते।

           ईंट-पत्थर के मकां, लो बन गए
           काश ! घर कोई बनाना जानते।

                  हो पसीने की महक जिसमें भरी
                  क्यों नहीं ऐसे कमाना जानते।

           बेवफा कहता न फिर कोई हमें
           ' विर्क ' जो आँसू बहाना जानते ।

                        ********

1 टिप्पणी:

Sushil Kumar Joshi ने कहा…

बहुत सुंदर !

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...