शुक्रवार, अक्तूबर 25, 2013

फिर याद आया राम है

सुन मुहब्बत दे रही पैगाम है
प्यार ही सबसे नशीला जाम है ।

दिन चुनावों के लगें नजदीक ही

भूल जाते लोग दो दिन बाद ही
सोच ये, हमने कमाया नाम है ।

बिक रहा हर आदमी इस देश का
था नगीना पर बड़ा कम दाम है ।

यूँ खड़े हैं साथ मेरे यार सब
जब जरूरत, कौन आया काम है ।

आबरू के उड़ रहे हैं परखचे
हो रहा अब ये तमाशा आम है ।

' विर्क ' अब हम जी रहे किस दौर में
ये शराफत भी बनी इल्जाम है ।
*******

3 टिप्‍पणियां:

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सटीक रचना
नई पोस्ट हम-तुम अकेले

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

मत पाने के वास्ते, होने लगे जुगाड़।
बहलाने फिर आ गये, मुद्दों की ले आड़।

बेनामी ने कहा…

I am really delighted to glance at this website posts which consists of plenty of useful facts, thanks for providing such statistics.


Take a look at my web site :: Toe Pain

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...