मंगलवार, अक्तूबर 22, 2013

उम्र भर कब रहा साथ साया घना


              सीख ले धूप की तल्खियाँ झेलना
              उम्र भर कब रहा साथ साया घना

             बन बवंडर गई देखते - देखते
             आग से तेज है बात का फैलना ।

             हाँ कही जब कभी, जाल खुद बुन लिया
             दाद देना उसे, कर सका जो मना

             हार हिस्सा रहेगी सदा खेल का
             जीत की चाह रखकर भले खेलना ।
          
             तंग है सोच, दिखती नहीं खूबियाँ
             आदतन वो करे सिर्फ आलोचना

             देखने का तरीका बदल तो सही
             खूबसूरत दिखेगा जहां, देखना ।
         
             तोड़ दो , अब जरूरत नहीं जाम की
             बिन पिए आ गया ' विर्क ' गम ठेलना ।

                           *******

2 टिप्‍पणियां:

Pratibha Verma ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति। ।

आशा जोगळेकर ने कहा…

हार हिस्सा रहेगा सदा खेल का
जीत की चाह रखकर भले खेलना ।

तंग है सोच, दिखती नहीं खूबियाँ
आदतन वो करे सिर्फ आलोचना ।
क्या बात कही है। बहुत खूबसूरत।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...