सोमवार, दिसंबर 16, 2013

वफा के खिलौने पुराने हुए


बड़ी गुर्बज़ी के जमाने हुए 
                      शराफत, अदब तो फ़साने हुए । 

                      वफा के लिए कौन मिटता यहाँ 
                      वफा के खिलौने पुराने हुए । 

                     न ढूँढा गया तोड़ इस चाल का 
                     नए रोज उनके बहाने हुए । 

                    जहाँ दिन ढला या कदम थक गए 
                    वहीं पर हमारे ठिकाने हुए । 

                    नफा देखते लोग हर बात में 
                    सभी आज बेहद सियाने हुए । 

                    यहाँ आम जब से हुई नफरतें
                    न फिर ' विर्क ' मौसम सुहाने हुए । 

                              *********
गुर्बज़ी - मक्कारी 
                               *********

2 टिप्‍पणियां:

Prasanna Badan Chaturvedi ने कहा…

वाह... उम्दा प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...
नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
नई पोस्ट मेरे सपनों का रामराज्य (भाग १)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...