सोमवार, दिसंबर 02, 2013

प्यार का इल्जाम रहने दे

                     
       सिखाना छोड़, होंठों पर उसी का नाम रहने दे
       यही है जिन्दगी अब, हाथ में तू जाम रहने दे ।

       अदा होगी नहीं कीमत कभी मशहूर होने की
       यही अच्छा रहेगा, तू मुझे गुमनाम रहने दे ।

       मझे मालूम है, रूसवा करेंगें प्यार के चर्चे
       लगे प्यारा, मेरे सिर प्यार का इल्जाम रहने दे ।

       शरीफों की शराफत देख ली मैंने यहाँ यारो
       नहीं मैं साथ उनके, तुम मुझे बदनाम रहने दे ।

       तुझे जो चाहिए ले ले, बचे जो छोड़ देना वो
       मेरे हिस्से सवेरा जो न हो, तो शाम रहने दे ।

       मुझे तो राह का'बे का लगे महबूब की गलियाँ
       वहाँ पर ' विर्क ' जाना रोज हो, कुछ काम रहने दे ।

                         ************

2 टिप्‍पणियां:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बृहस्पतिवार (05-12-2013) को "जीवन के रंग" चर्चा -1452
पर भी है!
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

कालीपद प्रसाद ने कहा…

बहुत खुबसूरत ग़ज़ल दिलबाग जी !बधाई
नई पोस्ट वो दूल्हा....
latest post कालाबाश फल

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...