बुधवार, नवंबर 09, 2016

दिल जलता है

बेबस होकर रोने के सिवा क्या मिलता है
हाले-दुनिया न सुना मुझको, दिल जलता है ।

देखना है तो बस इतना कि कब फटेगा ये
यूँ तो हर पल बगावत का लावा उबलता है ।

हालात बद से बदतर हुए हैं तो बस इसलिए
चलने देते हैं हम लोग, जो कुछ चलता है ।

बच्चों-सा मासूम है ये, हम-सा शातिर नहीं
मचलने भी दो इसको अगर दिल मचलता है ।

सितमगर की हुकूमत कब तक चलती रहेगी
आखिर वक़्त कभी-न-कभी रुख बदलता है ।

उसका शबाब कितना भी लाजवाब क्यों न हो
ये तो मुअय्यन है ' विर्क ' हर दिन ढलता है । 

दिलबागसिंह विर्क 
******
काव्य संग्रह - 100 क़दम 
संपादक - मुकेश सिन्हा, अंजू चौधरी 
******

2 टिप्‍पणियां:

रश्मि शर्मा ने कहा…

सितमगर की हुकूमत कब तक चलती रहेगी
आखिर वक़्त कभी-न-कभी रुख बदलता है ...बहुत खूबसूरत है हर शेर

savan kumar ने कहा…

बहुत सुन्दर शब्द रचना
http://savanxxx.blogspot.in

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...