मंगलवार, अप्रैल 12, 2011

हाइकु - 3

              आई बैसाखी                         
         
          लहलहाई 
          गेहूँ की वल्लरियाँ 
          जागे स्वप्न . 

          चहक उठा 
          किसान का चेहरा 
          आई बैसाखी .

          देखी फसल 
          नाचा मन मयूर 
          डाला भांगड़ा .

          जब मिलता 
          फल मेहनत का 
          दिल खिलता .

            * * * * *

          

6 टिप्‍पणियां:

ZEAL ने कहा…

बैसाखी पर लिखे गए बेहतरीन हाइकु।

वीना ने कहा…

बहुत ही अच्छे लिखे हैं....बधाई...

kase kahun?by kavita. ने कहा…

sunder bate kam shabdo me....happy baisakhi...

Navin C. Chaturvedi ने कहा…

वाह बैसाखी का स्वागत और ऐसी मनभावन हाइकु के साथ, मन प्रसन्न हो गया दिलबाग विर्क जी|

संजय भास्कर ने कहा…

एक सम्पूर्ण पोस्ट और रचना!
यही विशे्षता तो आपकी अलग से पहचान बनाती है!

Amrita Tanmay ने कहा…

Ati sundar...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...