शनिवार, अप्रैल 09, 2011

लघुकथा - 3


         आज का सच            
अध्यापक ने बच्चों को ईमानदार लकडहारा कहानी याद करने के लिए दी थी . अगले दिन कहानी सुनी जा रही थी . सुनाते वक्त एक बच्चे की जवान लडखड़ाई ." लकडहारा  ईमानदार आदमी था ", कहने की बजाए वह बोला -" ईमानदार आदमी लकडहारा था ."  
          अध्यापक सोच रहा है कि यही तो आज के वक्त का सच है कि ईमानदार आदमी लकडहारा ही है , अर्थात मजदूर है , गरीब है , बेबस है , मामूली आदमी है और जो भ्रष्ट है वह मालिक है , अमीर है , शहंशाह है , मजे में है .
       
                      * * * * *

9 टिप्‍पणियां:

दर्शन लाल बवेजा ने कहा…

वाह मास्साब सुंदर ...

दीप ने कहा…

बहुत सारगर्भित बात कह दी आप ने
बहुत सुन्दर
बहुत - बहुत धन्यवाद

Kunwar Kusumesh ने कहा…

Heart touching laghu katha. wonderful.

Markand Dave ने कहा…

शब्द कम पर बात बहुत ग़हरी..!!
वाह मित्रवर,बहुत अच्छे ।

मार्कण्ड दवे ।

Amrita Tanmay ने कहा…

Sach kahti sundar katha..

हल्ला बोल ने कहा…

-------- यदि आप भारत माँ के सच्चे सपूत है. धर्म का पालन करने वाले हिन्दू हैं तो
आईये " हल्ला बोल" के समर्थक बनकर धर्म और देश की आवाज़ बुलंद कीजिये...
अपने लेख को हिन्दुओ की आवाज़ बनायें.
इस ब्लॉग के लेखक बनने के लिए. हमें इ-मेल करें.
हमारा पता है.... hindukiawaz@gmail.com
समय मिले तो इस पोस्ट को देखकर अपने विचार अवश्य दे
देशभक्त हिन्दू ब्लोगरो का पहला साझा मंच
क्या यही सिखाता है इस्लाम...? क्या यही है इस्लाम धर्म

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

सटीक बात कह दी ... अच्छी प्रस्तुति

वन्दना ने कहा…

सच कहा।

सहज साहित्य ने कहा…

इस तरह के कथन लघुकथा को कमज़ोर करते हैं ; क्योंकि लघुकथा में इस तरह की व्याख्या की गुंजाइश नहीं होती ।

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...