गुरुवार, मई 05, 2011

हाइकु - 4


            समर्पण                         

          आँखों में आँसू

          दिल मेरा बेचैन

          कारण तू है .


          तुम्हें पा लिया

          अब क्या पाना बाकी

          तुम्हीं बताओ ?


          तेरा हो जाऊँ

          मैं तन से , मन से

          और क्या चाहूँ ?


          तुझको पा लूँ

          खुद को मिटा डालूँ

          चाहत मेरी .


          सर्दी में धूप

          वैसे ही सुहाती है

          जैसे तू मुझे .


          मैं कुछ नहीं

          मेरा कुछ भी नहीं

          बस तू ही तू .



               * * * * *

3 टिप्‍पणियां:

मदन शर्मा ने कहा…

अच्छी लगी रचना ।
मेरी हार्दिक शुभ कामनाएं आपके साथ हैं !!

संजय भास्कर ने कहा…

बहुत ही अच्छे लिखे हैं..

ZEAL ने कहा…

सर्दी में धूप
वैसे ही सुहाती है
जैसे तू मुझे ....

lovely lines Dilbag ji . Wonderfully expressed creation .

.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...