सोमवार, नवंबर 14, 2011

निर्णय के क्षण ( कविता ) भाग - 4


              जब भी वह 
              कुंती को दोषी ठहराकर 
              द्वंद्व से मुक्ति पाना चाहता है 
              तभी उसे याद आती है स्थिति 
              इस समाज की ।
              क्या यह समाज 
              कुंवारी माता को सहन कर पाता ?
              क्या उसकी माता को 
              हस्तिनापुर अपनी वधु बनाता ? 
              क्या वह पांडु का पुत्र कहलाता ?
              आज उसे 
              जिन पांडवों का भाई 
              बताया जा रहा है 
              क्या वह उन शूरवीरों का 
              भाई बन पाता ?
              प्रश्नों की इस अटूट श्रृंखला का 
              कोई उत्तर तो नहीं 
              मगर इससे झलकती है 
              निर्दोषता कुंती की ।
              उसकी सोच बार-बार 
              पहुंचती है इस निष्कर्ष पर 
              कि वह भी 
              उसी की तरह 
              नियति की शिकार है 
              सारा दोष तो उस समाज का है 
              जो रूढ़ियों से बीमार है ।
    
              यह समाज क्या है ?
              आखिर किसने बनाया है इसे ?
              क्या कर्ण 
              क्या अर्जुन 
              क्या कृष्ण 
              क्या दुर्योधन 
              इससे बाहर हैं ?
              क्या कुंती 
              क्या राधा 
              इससे बाहर है ?
              यह समाज इंसानों ने बनाया है 
              और खुद इन्सान ही 
              इसका शिकार है ।

              इन्सान को मुक्त कराना 
              क्या एक वीर का कर्तव्य नहीं ?
              अत्याचार का विरोध करना 
              क्या एक पुरुष का धर्म नहीं ?
              यह सोचते ही 
              कर्ण का खून उबलने लगता है 
              मगर आज उसे 
              समाज के सम्बन्ध में 
              निर्णय नहीं करना है 
              उसका निर्णय तो 
              कौरवों - पांडवों में से 
              किसी एक का चयन करना है 
              यह चुनाव उसकी सीमा है 
              और इसे याद करते ही 
              वह फिर शांत हो जाता है ।

                                   ( क्रमश: )

                        * * * * *

8 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

जबरदस्त!!!

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।
बालदिवस की शुभकामनाएँ!

सदा ने कहा…

बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

ऋता शेखर 'मधु' ने कहा…

प्रश्नों की इस अटूट श्रृंखला का
कोई उत्तर तो नहीं
मगर इससे झलकती है
निर्दोषता कुंती की ।

प्रश्नों के घेरे में कैद कर्ण की मानसिकता का बहुत सुन्दर वर्णन|

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

bahut acchhi prastuti...ankhe khol dene wali.

महेन्द्र श्रीवास्तव ने कहा…

क्या बात है, बहुत सुंदर

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

अच्छी प्रस्तुति

Pallavi ने कहा…

बहुत सही ...विचारणीय प्रस्तुति ....

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...