सोमवार, जनवरी 16, 2012

आरक्षण की मार

आरक्षण  की  मार  है , रही  देश  को  मार ।
इक जाति कभी दूसरी , मांगे ये अधिकार ।।
मांगे ये अधिकार , नहीं इसका हल कोई   ।
करें  हैं  तोड़ - फोड़ , व्यर्थ में ताकत खोई ।।
कहे विर्क कविराय , नहीं दिखते शुभ लक्षण ।
हो सुविधा की मांग , न मांगो तुम आरक्षण ।।

* * * * *    

4 टिप्‍पणियां:

Raravi ने कहा…

bilkul sahi kaha hai aapne. suvidha ki mang ho aarakshan ki nahin.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

बहुत सटीक रही यह कुण्डलिया!

पी.सी.गोदियाल "परचेत" ने कहा…

निज स्वार्थ ने अंधा बना रखा है, जिस भेदभाव का ये रोना रोते हैं वह यहाँ इन्हें नजर नहीं आता !

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

वाह!
बहुत बढ़िया!
अपनी सुविधा से लिए, चर्चा के दो वार।
चर्चा मंच सजाउँगा, मंगल और बुधवार।।
घूम-घूमकर देखिए, अपना चर्चा मंच
लिंक आपका है यहीं, कोई नहीं प्रपंच।।
आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार के चर्चा मंच पर भी होगी!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...