बुधवार, अप्रैल 17, 2013

हाइगा

रामेश्वर कम्बोज, डॉ . भावना कुंवर और डॉ . हरदीप संधू जी द्वारा संपादित यादों के पाखी संकलन में शामिल मेरे कुछ हाइकु में से एक 

3 टिप्‍पणियां:

Pratibha Verma ने कहा…

बहुत सुन्दर....
पधारें बेटियाँ ...

Dr.NISHA MAHARANA ने कहा…

yaaden saya hi to hoti hai ...bahut badhiya ...

ऋता शेखर मधु ने कहा…

sunder...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...