गुरुवार, मई 16, 2013

नजरें



तकरार के उन पलों में अगर सोचकर बोला होता
अब सुलह के इस दौर में नजरें यूँ झुकी न होती ।

***********

3 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत खूब

sadhana vaid ने कहा…

वाह ! बहुत बढ़िया !

Rajendra Kumar ने कहा…

अतिसुन्दर...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...