रविवार, जनवरी 30, 2011

हाइकु - 1




         भारतीयता 
         हमारी जाति भी है 
         और धर्म भी .

         सच के लिए 
         सदा लड़ते रहो 
         चाहे जो भी हो .

          युग बदले 
          किस्मत न बदली 
          नारी जाति की .

          बेहतर है 
          फालतू बोलने से 
          चुप रहना . 

           देह की नहीं 
           रूह की खुराक है 
           मोहब्बत तो .

           नहीं सीखते 
           गलती हमारी है 
           सिखाए वक्त .

          आत्ममंथन 
          जरूरी है सबसे 
          सबके लिए .

           मासूमियत 
           नियामत खुदा की 
           अगर मिले .

           व्यवस्था बुरी 
           जब हम पिसते 
           अन्यथा नहीं .

           हर शाख पे 
           बैठ गए हैं उल्लू 
           खुदा ! खैर हो .


                *****

5 टिप्‍पणियां:

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

Sunder bhav..kam shabdon mai...
Sabhee acche hai....magar No. 3 se mai sehmat nahee hoon, vaise hak ek viyaktee ka apna apna sochne ka tareeka hota hai....
Fursat ke pal hamare yahan...Hindi haiku website par zaroor bitana.
http://hindihaiku.wordpress.com

Dilbag Virk ने कहा…

aadraniy sandhu ji
namaskar
aapka asahmat hona hi btata hai ki aapne inhen gaur se pdha hai . main aapka aabhari hoon .
vidhagat kmiyan bhi btate to aur khushi hoti . aapke blog per hiku ke bare men pdha tha . aapke btae blog per bhi avshy samy bitanoonga . aasha hai aapka saneh bna rhega .

ZEAL ने कहा…

Beautiful presentation ! I liked all the couplets.

Dr (Miss) Sharad Singh ने कहा…

हर शाख पे
बैठ गए हैं उल्लू
खुदा ! खैर हो .......

भ्रष्टाचार पर करारा व्यंग!
हार्दिक बधाई!

संजय भास्कर ने कहा…

भ्रष्टाचार पर करारा व्यंग!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...