रविवार, दिसंबर 18, 2011

हिम्मत

            हिम्मत से जो काम ले, करता वही कमाल 
            दुनिया को वह बदल दे, बनता एक मिसाल ।
            बनता एक मिसाल , बुलंद इरादे जिसके 
            देकर सबको मात , सितारा बनकर चमके ।
            कभी न मानो हार , न कोसो अपनी किस्मत 
            कहे विर्क कविराय, जीत लेती जग हिम्मत ।


                                * * * * *

9 टिप्‍पणियां:

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

कहे विर्क कविराय, जग जीत लेती हिम्मत।
कुण्डली बहुत बढ़िया बनी है!
अगर बुरा न माने तो-
इसे इस प्रकार कर लीजिए-
कहे विर्क कविराय, जीत लेती जग हिम्मत ।

Kunwar Kusumesh ने कहा…

कुण्डली में सही सन्देश दिया है आपने.

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

प्रेरक कुंडली छंद ... सुन्दर अभिव्यक्ति

vandana ने कहा…

अच्छी कुंडली

Pallavi ने कहा…

सुंदर अभिव्यक्ति ...समय मिले कभी तो आयेगा मेरी पोस्ट पर आपका स्वागत है

Suman ने कहा…

nice

ऋता शेखर 'मधु' ने कहा…

प्रेरक प्रस्तुति...

Rajput ने कहा…

प्रेरक कुंडली सुन्दर लेख .

अरुण कुमार निगम (mitanigoth2.blogspot.com) ने कहा…

प्रेरणा से लबरेज कुंडली.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...