गुरुवार, दिसंबर 22, 2011

अपाहिज ( कविता )

                                          

                                  अपाहिज कोई 
              जिस्म से नहीं होता 
              सोच से होता है 
              जो सोच से अपाहिज है
              वह स्वस्थ होते हुए भी 
              हार जाता है ज़िन्दगी से 
              और जो 
              सोच से अपाहिज नहीं 
              वह अपाहिज होते हुए भी 
              धत्ता बता देता है 
              हर मुश्किल को 
              और सफलता 
              कदम चूमती है उसके । 


                    * * * * * *

5 टिप्‍पणियां:

vandana ने कहा…

बढ़िया सोच

Kunwar Kusumesh ने कहा…

आपकी कविता पढ़कर किसी का एक प्यारा-सा शेर याद आ गया.शेर है:-
अरे पर्वत तू कल तक जिसकी लाचारी पे हँसता था,
तेरी चोटी पे बैठा है वही बैसाखियाँ लेकर .

Urmi ने कहा…

ख़ूबसूरत शब्दों से सुसज्जित उम्दा रचना के लिए बधाई!
क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनायें !
मेरे नये पोस्ट पर आपका स्वागत है-
http://ek-jhalak-urmi-ki-kavitayen.blogspot.com/
http://seawave-babli.blogspot.com/

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत सुन्दर ... जिस दिन सोच अपाहिज हो गयी तो सच खुद अपाहिज हो जाते हैं ...

बेनामी ने कहा…

[img]http://i.imgur.com/rD8koPj.jpg[/img] [url=http://ordercheapestviagranow.com/#wyged]generic viagra shipped from usa[/url] - buy viagra 50 mg , http://ordercheapestviagranow.com/#npowl sex pills

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...