मंगलवार, जुलाई 16, 2013

पर्दा नहीं बना

यहाँ मिल जाएँगे हजारों स्थान तुम्हें छुपने के लिए
मगर कोई पर्दा नहीं बना गुनाहों को ढकने के लिए ।

कौन गिरता नहीं यहाँ, गिरकर उठना होता है मगर
बड़ी हिम्मत चाहिए खुद में, गिरकर उठने के लिए ।

मंदिर में सिर झुकाकर किसलिए इतना इतरा रहे हो
पहले खुद को मिटाना जरूरी होता है झुकने के लिए ।

तुझ पर ऐतबार न करना मुहब्बत की तौहीन होगी
मुझे पता है ये, तुम वादा करते हो मुकरने के लिए ।

कोई कल चला, कोई आज चला, किसी की बारी कल है
रहो तैयार ' विर्क ' कौन आया है यहाँ रुकने के लिए ।

************ 

3 टिप्‍पणियां:

अनुपमा पाठक ने कहा…

'कौन आया है यहाँ रुकने के लिए ।'

so true!

mybigguide ने कहा…

बहुत सुन्‍दर रचना आभार
नवीन लेख
How to keep laptop happy लैपटॉप को खुश कैसे रखें

Kuldeep Thakur ने कहा…

सुंदर भाव...

एक नजर इधर भी...
यही तोसंसार है...



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...